पुलिस के स्पशेल विंग ने अबोहर (फाजिल्का) के नजदीकी गांव साधू वाला से चंदू गैंग के गैंगस्टर गुरजंट सिंह भुल्लर उर्फ काला को गिरफ्तार कर लिया है। गैंगस्टर काला की गिरफ्तारी बुधवार रात करीब साढ़े दस बजे घर से की गई। लंबे समय से पुलिस को काला की तलाश थी। वह कई मामलों में वांछित था और पुलिस के लिए लोकसभा चुनाव के कारण सिरदर्द बना हुआ था। काला को मोगा, फिरोजपुर पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन के दौरान गिरफ्तार किया है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार काला को पकड़ने के लिए जब उसके घर पर छापामारी की गई तो वह ड्रिंक करते मिला। इसी दौरान चारों तरफ से घर की घेराबंदी करके उसे दबोच लिया गया। काला ने सबसे ज्यादा अपराधी गतिविधियां जालंधर, लुधियाना व फिरोजपुर में अंजाम दी हैं। उस पर कई संगीन मामले प्रदेश की विभिन्न थानों में दर्ज हैं। उसका संबंध गैंगस्टर चंदू व जयपाल गैंग से बताया जा रहा है।

चुनाव के दौरान पकड़ से बाहर आठ गैंगस्टरों में शामिल था काला

 

 

लोकसभा चुनाव के दौरान प्रदेश के जो आठ गैंगस्टर पुलिस की पकड़ से बाहर बताए जा रहे थे, उसमें काला भी नाम था। इसकी पुष्टि पिछले दिनों फिरोजपुर दौरे पर आए डीजीपी दिनकर गुप्ता ने की थी। उक्त आठाें गैंगस्टरों की धरपकड़ के लिए पुलिस का स्पेशल विंग तैयार किया गया था ताकि मतदान से पहले इन्हें दबोचा जा सके। 

 

धरपकड़ के लिए मोबाइल लोकेशन ट्रेस कर रही थी आईटी विंग

 

 

पुलिस की आईटी विंग लगातार काला के मोबाइल की लोकेशन ट्रेस कर रही थी। इसी के आधार पर आखिरकार उसे धर धबोचा गया। सू्त्र बता रहे है कि उसी दिन अपने गांव आया था। फिलहाल गुरजंट सिंह उर्फ काला को लेकर स्पेशल विंग के अधिकारी कहां गए है, इसके बारे में कोई अधिकारी कुछ बताने तैयार नहीं है। यहां तक कि एसपी (डी) बलजीत सिंह ने काला की गिरफ्तारी के बारे में पूछे जाने पर अनभिज्ञता जताई। आशा व्यक्त की जा रही है कि डीजीपी या फिर एडीजीपी क्राइम द्वारा जल्द मामले का खुलासा किया जाएगा।

पंचायत चुनाव में मतदाता की कुचलकर की थी हत्या

 

 

गत 31 दिसंबर को ममदोट ब्लॉक के नजदीकी गांव बस्ती लखमीर के हिठाड़ में मतदाता महेंद्र सिंह की उस समय गैंगस्टरों ने हत्या कर दी  थी, जब वे वूथ कैप्चरिंग में नाकाम रहने पर बैलेट बाक्स को आग लगाकर फरार हो रहे थे। इसी दौरान महेंद्र सिंह मतदान करके वापस अपने घर की ओर जा रहा था। गैंगस्टरों ने उसके ऊपर स्कार्पियों गाड़ी चढ़ा कर उसे कुचल दिया। उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। उन गैंगस्टरों का पता लगाने में अभी तक पुलिस नाकाम रही है।