महाराष्ट्र: कर्ज की बकाया रकम ना देने पर साहूकार ने एक परिवार को जिंदा जलाने की कोशिश की है. चंद्रपूर के सरकार नगर इलाके में यह दिल दहलाने वाली घटना हुई. इस घटना में देनदार का बेटा और पत्नी गंभीर रूप से घायल हो गए. घर जलाने वाला साहूकार भी इस घटना में झुलस गया. सोनू भाटिया अवैध रूप से साहूकारी करता था. सोनू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. चंद्रपूर के शिक्षक हरिश्चंद्र हरिणखेडे ने सोनू भाटिया से तीन लाख रुपये कर्जे के तौर पर लिए थे. जिसमें से दो लाख रुपये उसने वापस कर दिए थे. मंगलवार को 60 हजार रुपये देने का वादा था. लेकीन हरिश्चंद्र पैसे का जुगाड नहीं कर पाया तो दोनों में झगडा हो गया.

जिसके बाद सोनू ने पेट्रोल छिड़ककर हरिणखेडे के पूरे परिवार को जिंदा जलाने की कोशिश की. इस घटना में हरिश्चंद्र का बेटा पीयूष 40 फीसदी और पत्नी कल्पना 60 फिसदी झुलस गए. उन्हें सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सोनू भी जुलस गया है. जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर लिया है.

बताया जा रहा है जब सोनू हरीश्चंद्र के घर पर गया तो हरिश्चंद्र ने कुछ पैसे वापस करने लगा लेकिन सोनू पूरे 1 लाख रुपये मांग रहा था. जिसको लेकर झगडा शुरु हुआ. दोनों में झगड़ा इतना बढ़ गया कि सोनू बाहर चला गया और गाड़ी से पेट्रोल निकाल कर हरिश्चंद्र और उसके परिवार पर आग लगा दी.

इसके बाद आस पड़ोस के लोग आवाज सुनकर हरिश्चंद्र के घर पर पहुंचे और उन्होनें पीयूष और कविता को बचाया. पुलिस अधिकारी शिलवंत नांदेडकर ने बताया सोनू अवैध रुप से साहूकारी करता है. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है. घायल होने की वजह से सोनू को भी अस्पताल में रखा गया है. इस घटना से महाराष्ट्र में अवैध रुप से चलनेवाली साहूकारी की घटना सामने आई है.