लोकसभा चुनाव में सट्टा मार्केट भाजपा के हक़ में जाता हुआ दिख रहा है. नीमच के सट्टा बाज़ार में भाजपा के लिए 247-50 सीटों पर बराबरी का दांव लग रहा है जबकि कांग्रेस की 77-79 सीट बता रहा है. अगर इन आंकड़ों पर भरोसा किया जाए तो केंद्र में एक बार फिर मोदी काबिज़ हो रहे हैं.

सट्टा बाज़ार में भाजपा की 200 सीटों का भाव 11 पैसे चल रहा है. इसका मतलब है अगर आप एक लाख रुपए लगाते हैं और अगर भाजपा की 200 सीटें आ जाती हैं तो 11 हज़ार रुपए मिलेंगे. जबकि 200 सीटें नहीं आती हैं तो आपको एक लाख रुपए खोने पड़ेंगे. कुल मिलाकर सट्टा बाज़ार में जिस पार्टी के भाव कम होते हैं उसकी जीत की संभावना अधिक होती है.नीमच के बुकी देश भर के सट्टा मार्केट पर नज़र रखे हुए हैं. उनके मुताबिक सट्टा बाज़ार में हरियाणा का जो सेशन चल रहा है उसमें 7-8 सीटें भाजपा को मानकर सेशन चल रहा है.इसी तरह दिल्ली में 6-7 सीटें, यूपी में 44-46 सीट, गुजरात 44-46 सीट, एमपी में 21-22 सीट, राजस्थान में 19-20, बिहार में 12-14, बंगाल में 10-12, कर्नाटक में 15 -17 और आसाम में 7 से 9 सीटें बीजेपी के खाते में जाती दिख रही हैं. इन्हीं सीटों के आधार पर सट्टा मार्केट में भाव चल रहा है.सट्टा बाज़ार में सीटों की जो संख्या खुलती है उस पर माना जाता है कि इतनी सीटें उस पार्टी को मिल सकती हैं. लेकिन एक ख़ास बात ये है कि बीते विधानसभा चुनाव में सट्टा बाज़ार का अनुमान गलत साबित हुआ था. सट्टा बाज़ार एमपी, छत्तीसगढ़ में भाजपा और राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बता रहा था जबकि तीनों ही राज्यों में कांग्रेस की सरकार बन गयी.

आज के सट्टा बाज़ार में अन्य राज्यों की बात करें तो भाजपा को उड़ीसा में ८ से १० सीटें, महाराष्ट्र में 32-34 (शिवसेना/भाजपा ), पंजाब में 8 से 9 कांग्रेस, आंध्र प्रदेश में 12 से 14 वायएसआर कांग्रेस, छत्तीसगढ़ में 5 से 6 सीट भाजपा, केरला में 1 से 2 सीट भाजपा को मिल रही हैं.सट्टा मार्केट के मुताबिक अगर पंजाब और आंध्रा को छोड़ दें तो भाजपा सभी राज्यों में बेहतर दिख रही है. भले कुछ राज्यों में उसका प्रदर्शन पिछले लोकसभा चुनाव से कुछ कम हुआ है फिर भी वो सीट निकाल के ले जा रही है.

ये भाव आज के सट्टा बाज़ार के हैं. बाज़ार का भाव रोज और दिन में कई बार बनता बिगड़ता रहता है. फिलहाल आज की स्थिति में भाजपा प्लस है और सटोरिए केंद्र में मोदी को काबिज़ करते दिख रहे हैं.