★ इंदौर, शाजापुर, रायपुर (छत्तीसगढ), देहरादून तथा अन्य शहरों से आकर कर रहे थे आनलाईन सट्टे का कारोबार।

★ सट्टा खेलने वाले सैकड़ो लोगों से किये गये लेनदेन के लाखों रूपये का हिसाब किताब मिला।

★ आरोपियों के कब्जे से 13 मोबाईल फोन, 02 टेबलेट,  02 रजिस्टर, 03 डायरियां, 02 नोटपेड बरामद। 

         वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्रीमती रुचि वर्धन मिश्र इन्दौर (शहर) द्वारा आई. पी. एल. क्रिकेट मैचों के दौरान सक्रिय हुये सटोरियों पर निगरानी रखकर उन पर वैधानिक कार्यवाही करने हेतु इंदौर पुलिस को निर्देशित किया गया था। उक्त निर्देशों के तारतम्य में पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) इंदौर श्री अवधेश कुमार गोस्वामी के निर्देशन में क्राईम ब्रांच की समस्त  टीमों के प्रभारियों को सट्टा संचालित करने वाले सक्रिय सटोरियों के संबंध में आसूचना संकलित कर उनकी धरपकड़ करने हेतु समुचित दिशा निर्देश दिये गये थे।

            इसी अनुक्रम में क्राईम ब्रांच इन्दौर की टीम को मुखबिर तंत्र के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई थी कि कुछ लोग थाना बाणगंगा क्षेत्रांतर्गत, श्रीराम एनक्लेव में आई.पी.एल. क्रिकेट मैच का सट्टा ऑन-लाईन संचालित कर रहेे हैं। उक्त प्राप्त सूचना पर क्राईम ब्रांच इन्दौर की टीम ने थाना बाणगंगा के साथ संयुक्त कार्यवाही करते हुये, श्रीराम एन्कलेव में छानबीन कर फ्लैट क्रमांक 508 में दबिश दी जहां पर आॅनलाईन सट्टा खेलते हुये हुये पांच आरोपियों को पकड़ा गया जिन्होंनें पूछताछ में अपने नाम 1-मनु पिता रामगोपाल राय उम्र 23 साल निवासी फ्लैट नं.- 34 रॉयल बंगलो, सुखलिया, इन्दौर 2-रविन्द पिता भूपेन्द्र सिंह उम्र 23 साल निवासी 345 पीपली चैक, सुन्दर जी जिला शाजापुर, 3-सिद्धार्थ पिता नंदकिशोर जखमोला उम्र 23 साल निवासी 254/3 शास्त्री नगर, थाना बसंत विहार, देहरादून (उत्तराखण्ड), 4-सिद्धार्थ पिता दीपक मटानी उम्र 23 साल निवासी-जी-60, एम.आई.जी. कॉलोनी, इन्दौर एवं 5-तुषार पिता गैंदालाल पटेल उम्र 24 साल निवासी मोआ थाना के पास, रायपुर (छत्तीसगढ) का होना बताया।

           आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि आई. पी. एल. टी-20 क्रिकेट मैच के दौरान मुम्बई इंडियनस् एवं के.के. आर. टीम के दिनांक 28.04.2019 को रात्रि में आयोजित हुये मैच में ऑनलाईन साईट के जरिये सट्टा संचालित कर रहे थे। आरोपियों के कब्जे से 01 एल.ई.डी. टीवी, एयरटेल का सेट टॉप बाक्स, 13 मोबाईल फोन, 02 टैबलेट, 03 डायरियाँ एवं 02 रजिस्टर  बरामद हुयें जिसमें लाखो रुपयें के सट्टे का हिसाब किताब दर्ज था साथ ही नगदी कुल राशि 3770/- रुपये भी बरामद हुई ।


            आरोपियों का कृत्य धारा 3/4 सट्टा अधिनियम के तहत दण्डनीय पाये जाने से आरोपियों को थाना बाणगंगा के अपराध क्र 539/19 के अंतर्गत विधिवत् गिरफ्तार किया गया है।


 आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि वह लम्बे समय से सट्टे के कारोबार में संलिप्त हैं तथा सन् 2018 के दौरान आयोजित किये गये आई0पी0एल0 मैचों में भी सट्टे का कारोबार कर रहे थे तथा इस वर्ष पुनः आई0पी0एल0 मैचों में भी सट्टे का कारोबार करने लिये एकजुट होकर सक्रिय हुये थे।

        सट्टे के कारोबार को चलाने वाला मुख्य सरगना मनु पिता रामगोपाल राय है जोकि मुख्य रूप से डबरा (ग्वालियर) का रहने वाला है एवं वर्ष 2013 मैं इंजीनियरिंग की पढाई करने के लिये इन्दौर आया था एवं वर्तमान में इंदौर में ही रहता है। ये बड़े स्तर पर पूर्व से ही सट्टे का संचालन करता रहा है जोकि देश भर के तमाम सटोरियों एवं सट्टे  के सरगनाओं को मैच की प्रिडिक्शन कर जीत की संभावनाओं की जानकारी देता था। 


आरोपियों से प्रारंभिक पूछताछ में सट्टे के तार देश के अन्य कई बडे शहरों एवं विभिन्न राज्यों से जुड़े होना ज्ञात हुयें है चॅूकि आरोपीगण सट्टे का कारोबार आॅनलाईन संचालित करते थे इसलिये नगदी ज्यादा बरामद नहीं हुई किंतु आरोपियों से जप्त किये गये दस्तावेज तथा उपकरणों में सट्टे की राशि का हिसाब किताब लाखों में पाया गया है। आरोपियों ने बाणगंगा क्षेत्र के श्रीराम एनक्लेव में कुछ दिन पूर्व ही फ्लैट किराये से लिया था जहां पर सट्टे का अवैध कारोबार चला रहे थे।