पटना: लोकसभा चुनाव 2019 के चौथे चरण की सीटों के लिए शनिवार शाम प्रचार का शोर थम गया. इस चरण में सोमवार को बिहार के पांच लोकसभा क्षेत्रों दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय और मुंगेर में मतदान होगा. सबकी नजरें बेगूसराय सीट पर है जहां से सीपीआई (एमएल) की ओर से छात्रनेता कन्हैया कुमार, बीजेपी की तरफ से केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह जबकि महगठबंधन की ओर से तनवीर हसन मैदान में हैं. कुलमिलाकर बेगूसराय में त्रिकोणीय मुकाबला है. गिरिराज सिंह 2014 में नवादा से सांसद बने थे. इस बार पार्टी ने उन्हें बेगूसराय से चुनावी मैदान में उतारा है. गिरिराज शुरू में इसके लिए तैयार नहीं नहीं दिख रहे थे, हालांकि बाद में मान गए. 

रामधारी सिंह दिनकर की इस भूमि को वामपंथ का गढ़ माना जाता है. बेगूसराय में सात विधानसभा में एक भी सीट पर अभी पार्टी के विधायक नहीं हैं. बिहार विधानसभा के पहले कम्युनिस्ट विधायक चंद्रशेखर सिंह यहीं से निर्वाचित हुए थे. बेगूसराय में भूमिहार बहुसंख्यक हैं. कन्हैया कुमार और गिरिराज सिंह दोनों इसी समुदाय से ताल्लुक रखते हैं. बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र में भूमिहारों की संख्या करीब 4.75 लाख है. मुसलमानों की जनसंख्या 2.5 लाख, कुर्मी-कुशवाहा की दो लाख और यादवों की संख्या करीब 1.5 लाख है.  

 
बेगूसराय में 1967 के आम चुनाव में सीपीआई के योगेंद्र शर्मा ने कांग्रेस के इस मजबूत गढ़ को ढहाते हुए पहली बार जीत हासिल की. 2004 में एनडीए की ओर से जेडीयू के राजीव रंजन सिंह, 2009 में डॉक्‍टर मोनजीर हसन ने जीत दर्ज की थी. 2014 में बेगूसराय की सीट बीजेपी की झोली में गई. दिवंगत बीजेपी नेता भोला सिंह ने करीब 58 हजार वोटों से यह सीट जीती थी. उन्हें करीब 4.28 लाख जबकि आरजेडी के तनवीर हसन को 3.70 लाख वोट मिले थे. वहीं सीपीआई के राजेंद्र प्रसाद सिंह को करीब 1.92 लाख वोट ही मिले थे. 
चौथे चरण में बिहार में इन नेताओं की किस्मत दांव पर
चौथे चरण में आरजेडी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दिकी, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी (आरएलएसपी) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार, भाजपा के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह, लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के रामचंद्र पासवान, बिहार के मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह सहित 66 उम्मीदवार मैदान में हैं. गौरतलब है कि बिहार में लोकसभा चुनाव के सभी सात चरणों में मतदान होना है. पहले तीन चरणों के मतदान में बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से 14 सीटों पर मतदान हो चुका है.