नई दिल्ली । पिचले वर्ष में दोपहिया वाहनों की मांग में इजाफा हुआ है। टीवीएस, सुजुकी और पियाज्जो के स्कूटर लोगों की पहली पसंद बने है। रिपोर्ट के अनुसार टीवीएस मोटर कंपनी, सुजुकी मोटरसाइकल इंडिया और पियाज्जो की देश के स्कूटर बाजार में हिस्सेदारी में वित्त वर्ष 2018-19 में बढ़त दर्ज की गई है। सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स (एसआईएएम) के आंकड़ों के अनुसार 2018-19 में देश में स्कूटरों की बिक्री 67,01,469 यूनिट रही। यह 2017-18 की 67,19,909 यूनिट बिक्री की तुलना में 0.27 फीसदी की गिरावट है। वहीं, देश की दूसरी सबसे बड़ी स्कूटर कंपनी टीवीएस मोटर की 2018-19 में बिक्री 12,41,366 यूनिट रही। टीवीएस की 2018-19 में बिक्री 2017-18 की 10,99,133 स्कूटर के मुकाबले 12.94 फीसदी अधिक है। देश की सबसे बड़ी स्कूटर कंपनी होंडा मोटरसाइकल एंड स्कूटर इंडिया (एचएमएसआई) की बिक्री पिछले वित्त वर्ष के दौरान 36,80,403 यूनिट रही, जो 2017-18 की 38,21,542 स्कूटर की तुलना में 3.7 फीसदी कम है। वित्त वर्ष 2018-19 में एचएमएसआई की स्कूटर बाजार में हिस्सेदारी घटकर 54.91 फीसदी हो गई, जो 2017-18 में 56.86 फीसदी थी।
इसी तरह तीसरी बड़ी कंपनी हीरो मोटोकॉर्प की बाजार हिस्सेदारी में भी गिरावट दर्ज की गई। इसकी हिस्सेदारी 2018-19 में 10.73 फीसदी रही, जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 13.14 फीसदी थी। कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष में 7,19,087 स्कूटर बेचे, जो 2017-18 के 8,83,667 स्कूटर बिक्री की तुलना में 18.62 फीसदी कम है। इसी दौरान सुजुकी मोटर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड की स्कूटर बिक्री में बढ़त दर्ज की गई। 2018-19 में सुजुकी की बिक्री 46 फीसदी बढ़कर 6,15,520 स्कूटर रही, जो 2017-18 में 4,21,539 स्कूटर थी। इस दौरान कंपनी की बाजार हिस्सेदारी 9.1 फीसदी रही, जो इससे पिछले वित्त वर्ष 2017-18 में 6.27 फीसदी थी। स्कूटर बनाने वाली इटली की कंपनी पियाज्जो वीइकल्स की बाजार हिस्सेदारी भी मामूली तौर पर बढ़कर 1.16 फीसदी रही, जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 1.01 फीसदी थी। इस दौरान कंपनी ने घरेलू बाजार में 77,775 स्कूटरों की बिक्री की, जो 2017-18 के 68,169 स्कूटर की तुलना में 14 फीसदी अधिक है।