चुनाव के दौरान कुछ ऐसी फिल्में रिलीज करने का चलन हो गया है, जिससे राजनीति प्रभावित होती हो। यही वजह है कि लाल बहादुर शास्त्री की मौत की गुत्थी को लेकर बनी फिल्म द ताशकंद फाइल्स रिलीज से पहले ही विवादों में आ गई है। फिल्म निर्माताओं को लीगल नोटिस भी जारी किया जा चुका है। इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी फिल्म की रिलीज को लेकर विवाद खड़ा हुआ था, जिसमें विवेक ओबेरॉय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का किरदार निभाया है। इन दोनों ही फिल्मों की रिलीज पर कांग्रेस नेताओं ने आपत्ति दर्ज कराई है। जहां तक फिल्म 'द ताशकंद फाइल्स' का सवाल है तो इसकी रिलीज डेट 12 अप्रैल बताई गई है, लेकिन उससे पहले फिल्म निर्माताओं को लीगल नोटिस भी जारी किए जा चुके हैं। खास बात यह है कि भूतपूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के पोतों ने फिल्म की रिलीज के खिलाफ निर्माताओं को लीगल नोटिस भेजा है। इसलिए मामला गंभीर हो जाता है। यह अलग बात है कि नोटिस भेजने वाले शास्त्री जी के पोते कांग्रेस से भी जुड़े हुए हैं। कांग्रेस ने भी सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और सेंसर बोर्ड को पत्र लिखते हुए अपनी शिकायत पेश की है। जहां तक लीगल नोटिस का सवाल है तो इसमें साफ कहा गया है कि इस फिल्म के रिलीज होने से शांति भंग होगी। लोकसभा चुनाव के समय फिल्म रिलीज होने का गलत प्रभाव पड़ेगा। खास बात यह है कि इस लीगल नोटिस में यह भी बतलाया गया है कि फिल्म के रिलीज को लेकर शास्त्री परिवार के किसी भी सदस्य से किसी भी तरह की कोई अनुमति नहीं ली गई है। ऐसे में फिल्म निर्माताओं को फिल्म के लिए प्री-स्क्रीनिंग की व्यवस्था करनी चाहिए। लीगल नोटिस मिलने की पुष्टि फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री कर चुके हैं। अब देखना यह होगा कि फिल्म रिलीज होती है या विवादों में अटक जाती है।