कोलकाता । दो बार की चैंपियन कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) की टीम इस बार आईपीएल में बेहतर प्रदर्शन के इरादे से उतरेगी। दिनेश कार्तिक की कप्तानी वाली यह टीम पिछले साल ऐलिमिनेटर में ही हार गई थी। वहीं इस बार केकेआर की टीम काफी संतुलित नजर आती है। टीम की बल्लेबाजी अच्छी है हालांकि उसकी तेज गेंदबाजी पहले की अपेक्षा कमजोर है। बल्लेबाजी की बात करें तो केकेआर के पास बल्लेबाज के लिए क्रिस लिन और रॉबिन उथप्पा के के अलावा मध्य क्रम में दिनेश कार्तिक, शुभमन गिल और आंद्रे रसल हैं। दिनेश कार्तिक बतौर कप्तान और फिनिशर, दोनों भूमिकाओं में बेहतर हैं। जहां तक स्पिन गेंदबाजी की बात है तो कोलकाता के पास कुलदीप यादव, पीयूष चावला और सुनील नरेन जैसे स्पिनर हैं। रहस्यमयी गेंदबाज नरेन बल्लेबाजों के लिए समस्या बने रहेंगे। 
टीम को तेज गेंदबाजों की कमी खलेगी। अंडर-19 क्रिकेट के कमलेश नागरकोटि और शिवम मावी चोट के कारण बाहर हैं। टीम के पास अब केवल प्रसिद्ध कृष्णा ही सबसे अनुभवी गेंदबाज हैं। टीम ने टॉम करन और मिशेल स्टार्क को रिलीज कर दिया है। एनरिच नॉर्त्जे और इंग्लैंड के हैरी गर्ने के अलावा ल्यूकी फर्ग्युसन भी टीम के साथ हैं। आंद्रे रसल भी मध्यम गति से गेंदबाजी कर सकते हैं। केकेआर ने केरल के पेसर संदीप वॉरियर को अपने साथ जोड़ा है। टीम की सलामी जोड़ी क्रिस लिन और सुनील नरेन टीम के साथ पूरे सत्र में रहेंगे हालांकि रसल और कार्लोस ब्रैथवेट सत्र के आखिर में कुछ मैच छोड़ सकते हैं क्योंकि वेस्ट इंडीज को विश्वकप शुरू होने से पहले आयरलैंड में त्रिकोणीय सीरीज खेलनी है। कुल मिलाकर देखा जाये तो केकेआर की संभावनाएं बरकरार हैं।