नई दिल्‍ली : पुलवामा आतंकी हमले का कथित तौर पर समर्थन करते हुए वाट्सएप संदेश भेजने वाले एक कश्‍मीरी छात्र को देहरादून में गिरफ्तार किया गया है. कश्मीरी छात्र ने व्हाट्सएप पर जो संदेश साझा किया था, उसकी वजह से तनाव पैदा हुआ और दक्षिणपंथी हिंदू संगठनों ने विश्वविद्यालय का घेराव किया और छात्र की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की. देहरादून के निजी विश्वविद्यालय ने छात्र को निलंबित कर दिया.
देहरादून की एसएसपी निवेदिता कुकरेती से जब यह पूछा गया कि क्या देहरादून के मकान मालिक समाज के एक वर्ग के दबाव में हैं कि वे कश्मीरी छात्रों को किरायेदार नहीं रखें तो उन्होंने कहा कि ऐसी खबरें हैं लेकिन कोई औपचारिक शिकायत अभी नहीं मिली है.

उन्होंने कहा कि शहर के विश्वविद्यालयों में पढ़ाई कर रहे कश्मीरी छात्रों को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि परिसरों और हॉस्टलों के बाहर पर्याप्त संख्या में पुलिस तैनात हैं. पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि देहरादून की पुलिस ने जम्मू-कश्मीर पुलिस को आश्वस्त किया है कि वह कश्मीरी छात्रों के प्रतिनिधि के साथ संपर्क में हैं और देहरादून में उनकी सुरक्षा के हर तरह के इंतजाम किए गए हैं.
देहरादून की एसएसपी निवेदिता कुकरेती से जब यह पूछा गया कि क्या देहरादून के मकान मालिक समाज के एक वर्ग के दबाव में हैं कि वे कश्मीरी छात्रों को किरायेदार नहीं रखें तो उन्होंने कहा कि ऐसी खबरें हैं लेकिन कोई औपचारिक शिकायत अभी नहीं मिली है.

उन्होंने कहा कि शहर के विश्वविद्यालयों में पढ़ाई कर रहे कश्मीरी छात्रों को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि परिसरों और हॉस्टलों के बाहर पर्याप्त संख्या में पुलिस तैनात हैं. पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि देहरादून की पुलिस ने जम्मू-कश्मीर पुलिस को आश्वस्त किया है कि वह कश्मीरी छात्रों के प्रतिनिधि के साथ संपर्क में हैं और देहरादून में उनकी सुरक्षा के हर तरह के इंतजाम किए गए हैं.
वाट्सएप संदेश में कश्मीरी छात्र ने पुलवामा के नृशंस हमले की तुलना ऑनलाइन गेम पबजी के साथ की थी. पुलिस ने इस संबंध में आईपीसी की धारा 505 (2) के तहत छात्र के खिलाफ मामला दर्ज किया है. छात्र का अभी तक पता नहीं चल पाया है. गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे.

बता दें कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद जम्मू-कश्मीर से बाहर रह रहे कश्मीरियों को कथित तौर पर दी जा रही धमकियों की खबरों के मद्देनजर श्रीनगर स्थित सीआरपीएफ हेल्पलाइन ने शनिवार को उनसे कहा कि वे किसी भी तरह के उत्पीड़न के मामले उनसे संपर्क करें.

‘मददगार’ हेल्पलाइन ने इस सिलसिले में एक ट्वीट कर कहा है कि इस समय राज्य से बाहर कश्मीरी छात्र और आम लोग उसके ट्वीटर हैंडल ‘@सीआरपीएफ मददगार’ पर संपर्क कर सकते हैं. किसी भी कठिनाई या उत्पीड़न का सामना करने में शीघ्र सहायता के लिए वे 24 घंटे टोल फ्री नंबर 14411 या 7082814411 पर एसएमएस कर सकते हैं.