क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में टीम इंडिया एक बार फिर दबाव में है। रोहित के नेतृत्व में भारतीय टीम गुरुवार को बांग्लादेश के खिलाफ होने वाले दूसरे टी-20 मैच में जीत के साथ सीरीज बराबर करने के इरादे से उतरेगी। इस मैच में हार से तीन मैचों की सीरीज हाथ से निकल सकती है।भारत अगर बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज गंवाता है तो उसकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं, क्योंकि उसकी नजरें अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्व कप के लिए टीम तैयार करने पर टिकी हैं। वैसे इस मैच पर चक्रवातीय तूफान 'महा' का खतरा मंडरा रहा है।

भारत को दिल्ली में वायु प्रदूषण के बीच रविवार को पहले टी-20 मैच में सात विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। यह हार उस बांग्लादेश टीम से मिली थी जो वेतन और अन्य मुद्दों को लेकर खिलाड़ियों की हड़ताल के बाद यहां आई है, जबकि भारत दौरे पर रवाना होने से ठीक पहले भ्रष्ट संपर्क की सूचना नहीं देने के लिए टीम के स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन को निलंबित कर दिया गया।

 

भारत को पिछले कुछ समय में टी-20 प्रारूप में वैसी सफलता नहीं मिली है जैसी टीम ने एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय और टेस्ट क्रिकेट में हासिल की है और यह इस साल के नतीजों में भी झलकता है। भारत को इस साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर हार का सामना करना पड़ा जबकि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज बराबरी रही।

भारत ने टेस्ट क्रिकेट में दक्षिण अफ्रीका का क्लीन स्वीप किया था। नियमित कप्तान विराट कोहली सहित कुछ सीनियर खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी में युवा खिलाड़ियों के पास यह सीरीज अपनी क्षमता दिखाने का मौका है। हिटमैन रोहित को बल्ले से बड़ी पारी खेलने की जरूरत है। बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन की फॉर्म और स्ट्राइक रेट भी चिंता का विषय है। टेस्ट टीम में जगह गंवा चुके लोकेश राहुल पर भी बेहतर करने का दबाव है।

100 : वां अंतरराष्ट्रीय टी-20 मुकाबला होगा ओपनर रोहित शर्मा का
41 : रन बनाए थे 42 गेंदों पर शिखर धवन ने पहले टी-20 में
02 : अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेले गए हैं राजकोट मैदान पर जिसमें न्यूजीलैंड से हारे थे और ऑस्ट्रेलिया को हराया था

चक्रवात 'महा' फेर सकता है मैच पर पानी

चक्रवातीय तूफान  ‘महा’ के गुरुवार को गुजरात के तट से टकराने की संभावना है। सीरीज केपहले मैच में हार के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने स्वीकार किया था कि भारतीय टीम उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाई और डीआरएस पर कुछ गलत फैसलों ने भी इस हार में भूमिका निभाई।

सैमसन और शार्दुल को मिल सकता है मौका

यह देखना होगा कि टीम प्रबंधन दुबे को एक और मौका देता है या केरल के विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन को अंतिम एकादश में शामिल करता है। कर्नाटक के बल्लेबाज मनीष पांडे को भी मौका मिल सकता है। भारत की अनुभवहीन गेंदबाजी भी टीम प्रबंधन के लिए चिंता का विषय है।

तेज गेंदबाज खलील अहमद ने दिल्ली में चार ओवर में 37 रन लुटाए थे और 19वें ओवर में उनकी गेंदों पर विरोधी टीमें ने लगातार चार चौके मारे थे। दूसरे टी-20 में उनकी जगह शार्दुल ठाकुर को अंतिम एकादश में शामिल किया जा सकता है। युजवेंद्र चहल, क्रुणाल पंड्या और वाशिंगटन सुंदर की स्पिन तिकड़ी को विरोधी टीम की रन गति पर अंकुश लगाने के अलावा विकेट भी चटकाने होंगे।