प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को मंगलवार को उनके 55 साल पूरे होने पर बधाई दी। प्रधानमंत्री ने उनके दीर्घायु रहने और स्वस्थ जीवन की कामना की। प्रधानमंत्री ने शाह को ट्वीट के जरिए बधाई दी।
प्रधानमंत्री ने लिखा, 'कर्मठ, अनुभवी, कुशल संगठनकर्ता एवं मंत्रिमंडल में मेरे सहयोगी अमित शाह जी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं। सरकार में बहुमूल्य भूमिका निभाने के साथ ही वे भारत को सशक्त और सुरक्षित करने में भी महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं।

ईश्वर उन्हें दीर्घायु करे और सदा स्वस्थ रखे।'
22 अक्टूबर 1964 को अमित शाह का जन्म मुंबई के संपन्न गुजराती परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम अनिल चंद्र शाह और मां का नाम कुसुमबेन है। उन्हें मौजूदा राजनीति का चाणक्य कहा जाता है। शाह को राजनीति विरासत में नहीं मिली है। वह आज जिस मुकाम पर पहुंचे हैं वहां उनकी कड़ी मेनत और लगन ने उन्हें पहुंचाया है।


पिता का संभालते थे कारोबार
अमित शाह ने हैदराबाद से बॉयोकेमिस्ट्री में बीएससी करने के बाद पिता के प्लास्टिक के पाइप का कारोबार संभाला। इसके बाद उन्होंने स्टॉक मार्केट में कदम रखा। इसके बाद जब उन्होंने राजनीति में कदम रखा तो फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। 


16 साल की उम्र में बने स्वयंसेवक
गृह मंत्री 16 साल की उम्र में साल 1980 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (एबीवीपी) के कार्यकर्ता बने। अपनी कार्यकुशलता और सक्रियता के कारण 1982 में केवल दो सालों के अंदर वह एबीवीपी की गुजरात इकाई के संयुक्त सचिव का पद संभाला। 1986 में उनकी मुलाकात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हुई जो गहरी दोस्ती में बदल गई।