बिलासपुर । जिला पंचायत में आयोजित सामान्य सभी की बैठक में किसानों के फसल बीमा, रेडी-टू-ईट, डायवर्सन रोड मरम्मत, स्कूलों में शिक्षकों एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की व्यवस्था के संबंध में सदस्यों ने ध्यान आकर्षित कराया। जिस पर संबंधित विभागों के अधिकारियों द्वारा आवश्यक कार्यवाही करने की बात कही गई। बैठक की अध्यक्षता जिला पंचायम अध्यक्ष दीपक साहू ने की।
बैठक में किसानों के फसल बीमा के संबंध में कृषि विभाग द्वारा जानकारी दी गई की पिछली बार किसानों को दो से तीन किस्तों मे फसल बीमा की राशि दी गई थी। इसलिए पूर्व के बीमा कंपनी को हटाकर भारत सरकार का उपक्रम एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड को फसल बीमा के लिए अधिकृत किया गया है। जिला पंचायत सदस्य जितेंद्र पाण्डेय द्वारा किसानों द्वारा बीमा क्लेम की प्रक्रिया की जानकारी चाही गई। इस पर कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा बताया गया कि 24 घंटे के अंदर तहसीलदार के पास आपना बीमा क्लेम करवायें। तहसीलदार इसमें नियमानुसार कार्यवाही कर प्रस्ताव भेजते हैं।
जिला पंचायत सदस्यों द्वारा स्कूलों में चैकीदार नहीं होने के संबंध में ध्यान आकर्षित कराने पर मुख्यकार्यपालन अधिकारी रितेश अग्रवाल ने कहा कि ऐसे प्रस्ताव पर 14 वें वित्त आयोग के माध्यम से स्कूलों में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों की कमियों को दूर करने का प्रयास किया जाएगा। विभिन्न जलाशयों एवं डायवर्सन रोड के खराब होने के संबंध में जल संसाधन विभाग के अधिकारियों द्वारा बताया गया कि सभी एनीकट डायवर्सन रोड का निरीक्षण उपरांत मरम्मत कार्य कराया जाएगा। अभी बरसात होने के कारण ऐसे कार्य नहीं हो पा रहा है। सदस्यों द्वारा महिला बाल विकास विभाग द्वारा रेडी-टू-ईट की गुणवत्ता के संबंध में जानकारी चाही गई। इस पर सीईओ जिला पंचायत ने महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि गुणवत्ता एवं जांच कार्यवाही के संबंध में माननीय सदस्यों को अवगत करावें।जिले में शिक्षक विहिन स्कूलों एवं कम शिक्षक वाले स्कूलों में शिक्षक की व्यवस्था के संबंध मेंं जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि इस तरह के स्कूलों का चिन्हांकित कर लिया गया हैं और शीघ्र ही कार्यवाही किया जाएगा। सामान्य सभा की बैठक में सुश्री समीरा पैकरा, रमेश कौशिक, जितेन्द्र पाण्डेय, एच. खलखों, सत्यदेव शर्मा, डीएफओ कमल, डीएफओ  वाणिज्य, डा. आर. एम त्रिपाठी, आरएन हिराधर, आनंद पाण्डेय सहित संबंधित जिला के अधिकारी और उनके प्रतिनिधि उपस्थित थे।