भोपाल । बाढ प्रभावित क्षेत्र का हवाई सर्वें करने मंदसौर पहुंचे राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत उस समय पत्रकारों पर भडक गए जब उनसे सवाल किया गया कि जब सडकें चालू है तो हेलिकॉप्टर से हवाई सर्वे क्यों किया जा रहा है। मंत्री जी ने भडकते हुए कहा कि नहीं आते तो कहते, कोई नहीं आया, आया तो भी मुसीबत। बाद में उन्होंने मामले को संभाल लिया। यहां बता दे कि  राजस्व मंत्री गोविंदसिंह राजपूत ने शनिवार को मंदसौर जिले के अतिवृष्टि प्रभावित मल्हारगढ़, सीतामऊ तहसील का हेलिकॉप्टर से सर्वे किया। बाद में पत्रकारों से चर्चा में उन्होंने जानकारी दी कि मप्र में सर्वाधिक वर्षा में मंदसौर जिला दूसरे नंबर पर है। इसी बीच पत्रकारों ने पूछा कि अभी जिले में कहीं बाढ़ की स्थिति नहीं है। सड़क मार्ग भी चालू है। ऐसे में हवाई सर्वे का क्या औचित्य है? इस पर मंत्री भड़क गए। कहा- नहीं आते तो कहते, कोई नहीं आया, आया तो भी मुसीबत। बाद में संभलते हुए कहा कि मुझे झाबुआ भी जाना है और वहां से भोपाल पहुंचना है। समय की कमी के कारण हवाई सर्वे किया है।
14 अगस्त से फिर हो सकती है बारिश:
पिछले दिनों मध्यप्रदेश के कई इलाकों में झमाझम बरसात देकर अवदाब का क्षेत्र वर्तमान में उत्तर गुजरात और दक्षिण राजस्थान पर सक्रिय हो गया है। इस सिस्टम के रुखसत होते ही प्रदेश में बौछारें पड़ने का सिलसिला थमने लगा है। उधर, मौसम विज्ञानी उदय सरवटे का कहना है कि बंगाल की खाड़ी में एक कम दवाब का क्षेत्र बनने के संकेत मिले हैं। यह 12 अगस्त को बनेगा। इसके प्रभाव से 14 अगस्त से प्रदेश में एक बार फिर बारिश हो सकती है। मालूम हो, अवदाब का क्षेत्र राजस्थान खिसक जाने से मध्यप्रदेश में अभी बरसात थम गई है।