भारतीय महिला एथलीटों ने पिछले एक साल में विश्व स्तर पर शानदार प्रदर्शन करते हुए कई स्वर्ण पदक अपने नाम किए हैं। गोल्डन गर्ल हीमा दास ने यूरोप में दमदार दौड़ लगाई। वहीं वेटलिफ्टिंग में भी कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप्स में भी भारतीय महिला ऐथलीट्स ने अपने प्रदर्शन का लोहा मनवाया। धाविका दुती चंद ने भी वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स में 100 मीटर रेस में गोल्ड मेडल जीता। वह किसी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में 100 मीटर दौड़ में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय बनी। इन दोनों के अलावा धाविका लिलि दास, शुट पुटर नवजीत कौर और डिस्कस थ्रोअर नवजीत कौर ढिल्लों ने भी कजाकस्तान में आयोजित कासानोव मैमोरियल इवेंट में गोल्ड मेडल जीता।
शूटिंग राही सरनोबत ने आईएसएसएफ वर्ल्ड कप में गोल्ड मेडल जीतकर टोक्यो ओलिंपिक 2020 का कोटा हासिल किया। इसी इवेंट में राइफल शूटर अपूर्वी चंदेला ने 10मीटर एयर राइफल में गोल्ड मेडल जीता और अगले साल होने वाले ओलिंपिक के लिए कोटा हासिल किया। सीनियर खिलाड़ियों की कामयाबी को मनु भाकर, ऐश्वर्य तोमर और इलावेनिल वलारियन ने भी आईएसएसएफ जूनियर वर्ल्ड कप में गोल्ड मेडल जीते। 16 साल की मनु ने भी 2020 ओलिंपिक के लिए कोटा हासिल किया।
कुश्ती विनेश फोगाट ने महिलाओं के 53 किलोग्राम भारवर्ग में गोल्ड मेडल जीता। उन्होंने स्पेन में आयोजित ग्रैंड प्री सोने का तमगा जीता। दिव्या काकरन ने इसी इवेंट में 68 किलोग्राम भारवर्ग में स्वर्ण पदक जीता। विनेश ने प्रतिष्ठित यासर डोगू इंटरनैशनल मीट में एक और गोल्ड मेडल जीता। सीमा और मंजू कुमारी ने भी क्रमश: 50 और 59 किलोग्राम भारवर्ग में स्वर्ण पदक जीते।
कॉमनवेल्थ चैंपयिनशिप में वेटलिफ्टिंग में भारतीय पहलवानों ने शानदार प्रदर्शन किया है। इस इवेंट में 11 भारतीय महिलाओं ने गोल्ड मेडल डीते। इसमें एशियन चैंपियन मीराबाई चानू भी शामिल हैं।इस जीत के बाद मीराबाई के लिए ओलिंपिक पदक जीतने का सपना और करीब नजर आ रहा है।
कॉमनवेल्थ टेबल टेनिस चैंपियनशिप 2019 में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। इसमें महिला टीम जिसमें मणिका बत्रा, अर्चना कामत, मधुरिका पाटकर, सुतीर्था मुखर्जी और आहिका मुखर्जी ने टीम इवेंट में गोल्ड मेडल जीता। पूजा सहस्त्रबुद्धे और कृतित्तविका सिन्हा रॉय ने महिला डबल्स में भी गोल्ड मेडल जीता। वहीं आहिका मुखर्जी ने महिला एकल में गोल्ड मेडल जीतकर भारत का मान बढ़ाया है।