श्रावण, कार्तिक, माघ व वैशाख मास विशेष भक्ति करने व सिद्धि प्राप्त करने के माह होते हैं। इन महीनों में की गई भक्ति अनन्य फल देती है। यशोदानंदन, राधाप्रिय, देवकीनंदन, वसुदेव श्रीकृष्ण की भक्ति श्रावण में विशेष फल देने वाली होती है।


श्रावण शुक्ल पक्ष अष्टमी से भाद्रपद कृष्ण अष्टमी तक यदि भगवान श्रीकृष्ण की भक्ति करें तो आपके मनोरथ पूर्ण होते हैं। यदि आपको भगवान श्रीकृष्ण की अनन्य कृपा प्राप्त करना है, तो अपनी राशि अनुसार उनकी भक्ति करें। 

पढ़ें राशिनुसार मंत्र

मेष : ॐ आदित्याय नम:।

वृषभ : ॐ आदिदेव नम:।
मिथुन : ॐ अचला नम:।

कर्क : ॐ अनिरुद्ध नम:।

सिंह : ॐ ज्ञानेश्वर नम:।

कन्या : ॐ धर्माध्यक्ष नम:।

तुला : ॐ सत्यव्त नम:।

वृश्चिक : ॐ पार्थसारथी नम:।

धनु : ॐ बर्धमानय नम:।
मकर : ॐ अक्षरा नम:।

कुंभ : ॐ सहस्राकाश नम:।

मीन : ॐ आदिदेव नम:।