नई दिल्‍ली: देश में बाढ़ और कई राज्‍यों में लगातार हो रही बारिश ने हालात चिंताजनक बना दिए हैं. बिहार और असम में बाढ़ के कारण अब भी स्‍थिति बहुत खराब है. सिर्फ इन दो राज्‍यों में ही अब तक बाढ़ से 147 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. बिहार में जहां 97 तो असम में 50 लोगों की जान जा चुकी है. लाखों लोग बाढ़ कारण बेखर है. इनकी तादाद इतनी है कि राहत कैंप भी कम पड़ रहे हैं.सिर्फ असम और बिहार ही नहीं देश के दूसरे राज्‍यों में भी भारी बारिश के कारण हजारों लोग प्रभावित हुए हैं.


बिहार में मौत का आंकड़ा 97 हुआ
बिहार में मधुबनी और दरभंगा जिला में बाढ़ का प्रकोप सबसे ज्‍यादा है. सबसे ज्यादा कमला नदी के किनारे बसी जगहों पर आफत है. मधुबनी में कई घरों में 10 दिन से खाना नहीं बना पाया है.
कमला नदी के किनारे बसी 150 घरों वाली बस्ती उजड़ गयी है.    

करीब डेढ़ दर्जन गाँव प्रभावित हैं. घरो में पानी घुस गया है. अनाज, कपडे, कीमती सामान सबकुछ पानी में डूब गया है. लोग एक ही खाट पर बैठकर दिन गुजार रहे हैं.
साइकिल और बच्चे दोनो  बाढ़ के पानी के तेज धार में बह गये साइकिल तो मिली है लेकिन बच्चा नहीं मिला. उधर फारबिसगंज में  राहत सामग्री के वितरण के दौरान राहत सामग्री लेने वालों की होड़ मच गई.


महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में भारी बारिश:
रत्नागिरी के खेड कुडोशी के ब्रिज पर पानी चढ़ने से आंबवली, खेड, दहिवली इलाके के यातायात पर असर मुंबई गोवा हाइवे पर बारिश के कारण यातायात धीमा चल रहा है. रत्नागिरी  के  खेड-चिपळूण में कालकाई मंदिर में पानी घुस गया है.

हरियाणा के सिरसा में बाढ़ का खतरा बढ़ा:
सिरसा में घग्घर नदी में पानी ज्यादा आने से आसपास के गाँवो के लोगों को बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है. पिछले कई दिनों से पहाड़ी इलाको में लगातार बारिश होने से सिरसा में घग्घर नदी उफान पर चल रही है, आज भी घग्घर नदी का जलस्तर बढ़ गया है. बढ़ते जलस्तर से घग्घर नदी के पास लगते गाँवों के किसानो की चिंताए बढ़ती जा रही हैं. फ़िलहाल अभी सरकारी बांध तक पानी पहुंचा है. सरकारी बांध न टूट जाये इसके लिए ग्रामीण प्रशासन की मदद से बांध को मजबूत करने में जुटे हैं. ग्रामीणों की लगभग 500 एकड़ फसल जलमग्न है.

पंजाब: फ़िरोजपुर सतलुज के साथ लगते बांधों की हालत खस्ता
हाड़ी इलाकों और पंजाब में पिछले कई दिनों से लगातार मूसलाधार बारिश हो रही है. इस बारिश के कारण सतलुज नदी व्यास नदी और  घग्गर नदी जैसी बड़ी नदियों का पानी का स्तर बड़ा हुआ है. पिछली दिनों में घग्गर नदी का बांध टूटने के कारण संगरूर के कई गांव और हजारों एकड़ की फसल पानी की चपेट में आ गई है. बाढ़ जैसी स्थिति बनने के बाद अब सेना की मदद की मांग की गई है. फ़िरोजपुर के सतलुज के बांधों की हालत तो और खस्ता है. अगर बारिश लगातार होती रही तो किसी समय पर भी सतलुज का पानी उफान पर होगा और ये पानी का उफान फ़िरोजपुर की जनता के लिए एक बड़ी आफत पैदा हो सकती है.


असम: 33 में से 27 जिलों में बाढ़ की स्थिति गंभीर
आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार असम के 27 जिलों के 3705 गांवों के 48,87,443 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं. 57 लोगों के बाढ़ से और एक्फलीटिस बुख़ार से अब तक 168 लोगों की मौत हुई है. पिछले 3 दिनों से बारिश थमने का बाद ब्रह्मपुत्र की सहायक नदियों में जलस्तर घटा हैं पर प्रमुख नदियां जिया भराली, कपिली और ब्रह्मपुत्र का जलस्तर अभी भी ख़तरे से ऊपर है. राज्य के 755 राहत शिविरों में 1,47,833 लोग शरण लिए हुए हैं.  सेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ बचाव अभियान में जुटी हुई हैं. सबसे ज्यादा बाढ़ से जानवरों की मौत और लापता होने की सूचना हैं, वन मंत्रालय के अनुसार काज़ीरंगा राष्ट्रीय उद्यान सदी के सबसे भयंकर बाढ़ झेल रहा हैं, काज़ीरंगा नेशनल पार्क का 90% हिस्सा बाढ़ग्रस्त हैं.

पश्चिम बंगाल: मालदा की फुलहार नदी उफान पर
पश्‍च‍िम बंगाल के मालदा में बाढ़ से जनजीवन अस्‍त व्‍यस्‍त है. जिसके चलते नदी किनारे बने बांध में कटाई शुरू हो गई है. रतुआ के एक नंबर ब्लॉक में देबीपुर इलाके के बांध से केवल 50 मीटर की दुरी पर फुलहार नदी बहती है. बीते 24 घंटो में नदी का पानी करीब 20 सेंटीमीटर तक बढ़ चुका है. अभी और भी बढ़ने की उम्मीद है. अभी तक फुलहार नदी के वजह से रतुआ के महानंदा टोला, बिलाई मारी, न्यू बिलाई मारी समेत कई अन्य गांव  के करीब 30 हज़ार परिवार बाढ़ की चपेट में है.

गाजियाबाद के विजयनगर इलाके में एक बच्चा नाले में डूबा
गाजियाबाद के सर्वोदय नगर में एक बच्‍चा नाले में डूब गया. बच्चे की साइकिल मिल गई है. 12 वर्षीय बच्चा साईकल चला रहा था. बच्चे की साइकिल मिल गई है, बच्चा अभी तक नहीं मिला है. एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई है रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. संभावना है कि जल्द ही बच्चे को तलाश लिया जाएगा नाले में डूबे वाले छात्र का नाम दीपांशु बताया जा रहा है. जिसके पिता का नाम अशोक कुमार है. शिवपुरी के रहने वाले है. दीपांशु के दादा आशाराम ने साइकिल की पहचान की है. जिसे प्रतीत हो रहा है कि डूबने वाला 10वीं का छात्र दीपांशु ही है. दीपांशु 10वी का छात्र है. इसका भाई शुभम दीपांशु के साथ 10वीं में पड़ता है, जो घर पहुंच गया मगर दीपांशु नहीं पहुंचा.


राजस्थान के चूरू में बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त:
चूरू जिले के सरदारशहर कस्बे में आज शाम आई बारिश से मुख्य बाजार, शिव मार्केट, बोडिया कुआ, सब्जी मण्डी आदि नीचले इलाकों में पानी भर गया जिसके कारण आवागमन बाधित हो गया तथा कई दुकानों में पानी भर गया. जिसके कारण दुकानदारों को नुकसान का सामना करना पड़ा.  

प्रयागराज: बारिश के कारण वर्षों पुराना पीपल क़ा पेड़ गिरा, महिला और उसके बच्चे दबे:
पेड़ के नीचे दबने से एक महिला हुई गंभीर रूप से घायल, घायल महिला को स्थानीय लोगों की मदद से रेस्क्यू कर निकाला गया बाहर, महिला को गंभीर रूप से घायल अवस्था में भेजा गया.  कोतवाली के भारती भवन के पास वर्षों पुराना पीपल क़ा पेड़ सड़क पर गिर गया, सड़क पर पेड़ गिरने से सब्जी खरीदने निकली महिला आई चपेट में, चीख पुकार सुनकर स्थानीय लोगों ने पेड़ की चपेट में आने से दबी महिला को निकाला बाहर, घायल महिला ने दो बच्चों के भी दबे होने की दी जानकारी, महिला के बताने पर स्थानीय लोगों के साथ पुलिस बच्चों के तलाश में जुटी, मौके पर रेस्क्यू टीम सहित स्थानीय लोगों द्वारा बचाव राहत कार्य ज़ारी.