दमिश्क: सीरिया ने इज़रायल पर आरोप लगाया कि उसने होम्स प्रांत में एक एयरबेस को निशाना बनाया है. 24 घंटे के अंदर यह दूसरा ऐसा हमला है. सरकारी समाचार एजेंसी सना ने सैन्य सूत्र के हवाले से खबर दी है कि सीरिया के हवाई रक्षा प्रणाली ने रविवार को इज़रायल के एक हमले को नाकाम कर दिया और टी-4 एयरबेस को निशाना बनाकर दागे गए दो रॉकेटों को मार गिराया.

हथियार डिपो को पहुंचा नुकसान
सूत्र ने बताया कि शेष रॉकेटों ने एक सैनिक की जान ले ली जबकि दो अन्य जख्मी हो गए. इसके अलावा हथियार डिपो को नुकसान पहुंचा है. ब्रिटेन के ‘सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स’ ने बताया कि सीरिया के एक सैनिक समेत पांच लोगों की मौत हुई है. इसने कहा कि हमले ने रॉकेट डिपो को भी नष्ट कर दिया है.

इज़रायल ने हमले के बाद कही यह बात
निगरानी संस्था ने कहा कि सीरियाई सेना के अलावा, एयरबेस पर ईरानी लड़ाके और हिज़्बुल्ला के अर्द्धसैनिक बल भी मौजूद थे. यह हमला इज़रायल के सीरिया में हमला करने की बात स्वीकारने के कुछ घंटों बाद हुआ है. इज़रायल ने कहा कि उसने पड़ोसी देश से रॉकेट दागे जाने के जवाब में हमला किया है. संस्था ने कहा कि राजधानी के दक्षिण में हुए हमले में सीरियाई सैनिक और विदेशी लड़ाकों समेत 10 लोग मारे गए हैं.

इज़रायल ने ईरान और हिज़्बुल्ला के ठिकानों को निशाना बनाने के नाम पर सीरिया पर सैकड़ों हवाई हमले किए हैं. इज़रायल कहता है कि वह अपने कट्टर दुश्मन ईरान को सीरिया में सैन्य रूप से घुसने से रोकने के लिए दृढ़ है. सीरिया में ईरान समर्थित राष्ट्रपति बशर अल असद आठ साल की लड़ाई के बावजूद पद पर बने हुए हैं. इस लड़ाई में 3,70,000 लोगों की मौत हुई है.